Saturday, June 25, 2022
HomeSahityaHindi Poem for Kids

Hindi Poem for Kids

  1. दो दीप
  2. तितली रानी
  3. भारत देश हमारा है
  4. सूरज
  5. बदल

1. दो दीप

बिना तेल का , बिन बाती का,
        दिनभर एक दिया जलता है ।
        और दीप जलने से पहले ,
        पश्चिम में जाकर ढलता है ।
                                     नभमंडल का सूरज है वह,
                                      कण-कण को उज्जवल करता है।
                                      ऊंच नीच का भेद मिटाकर ,
                                     अंधकार सबका हारता है ।
        चमकीली किरणों से अपनी ,
        नित नया सवेरा लता है ।
        उसकी चमकीली किरणों से ,
        तन-मन, जीवन का नाता है ।
                                       कमल पोखरों में हस्ते है ,
                                       मन में फुले नहीं समाते ।
                                       किरणों से नव जीवन पाकर ,
                                       पंछी नाच – नाचकर गाते ।
        एक दीप जलता है ऐसा,
        भारत माँ के आंगन में ।
        जिसके आगे नतमस्तक है ,
        ढलता सूरज नीलगगन में ।
                                        वह शिक्षा का एक दीप है ,
                                        जो दिन रात जला करता है ।
                                        ज्ञान – दीप है जो समाज के,
                                        घाट – घाट में प्रकाश भरता है ।

Manoj Vermahttp://hinditechsol.com
Blogger, Website Developer, Website Designer, IT Professional
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments